शेर शायरियाँ

posted in: Uncategorized | 0

शेर शायरियाँ

1]
खुदी को कर बुलंद इतना के
खुदा खुद पूछे बांधेसे
हर तख्दीर लिखनेसे पहले
बता तेरी राजा क्या है

2]
ऐसा रहा करो करे लोगः आरजू
ऐसी चलन चलो के ज़माना मिसाल दे

3]
सुरुखरूर होता है आदमी ठोखर खानेके बाद
रंग लाती है मेहंदी पत्थर पे घिसनेकेबाद

4]
लोगं में बस कर देखो, सोनेको घसकर देखो

5]
तू हिन्दू न बनेगा, तू मुस्सल्मान न बनेगा
इंसान की औलाद है तुम इंसान बनेगा

6]
चिरागें जल के दिल बहला रहे हो
यहां तो बेचनेवालोंने ने गुलशन बेच डाला है

7]
चान्दिनी चाँद से होती है, सितारों से नहीं
मोहब्बत एकसे होती है , हज़ारोंसे नहीं

8]
किसी का पेट भरा सकते हैं मजार नजर नहीं भरासकते

9]
जब नहीँ दिखा तो दरिया भी खत्र नज़र आता है
जब दिखा तो खत्र भी दरिया नज़र आता है

Leave a Reply